Mother and two children contemplating over life.

चारों तरफ जय माता दी छाई हुई है -फिर ये वृद्ध आश्रमों में किसकी मां आई हुई है!!

हिन्दू आस्था पर चोट करने के लिये कुछ लोग ऐसे सन्देश फैला रहे। चारों तरफ जय माता दी छाई हुई है -फिर ये वृद्ध आश्रमों में किसकी मां आई हुई है!! उनको मेरा जवाब वृद्धा आश्रम में माता जी इसीलिये आ रही हैं क्यों कि लोग भारतीय सभ्यता संस्कृति से दूर हो गये हैं। पाश्चात्य […]

history-of-india

जो राष्ट्र पूरे विश्व का गुरु है, उसका इतिहास जानिए।

जो राष्ट्र पूरे विश्व का गुरु है, उसका इतिहास जानिए।   ‘भारतीय ऐतिहासिक कालानुक्रम’ (क्रोनोलॉज़ी) मेरे सर्वाधिक प्रिय विषयों में से है और विगत डेढ़ दशक से मैं इस विषय पर अन्वेषण और लेखन-कार्य कर रहा हूँ। इस सन्दर्भ में सन् 2009 में मेरी पुस्तक ‘भगवान् बुद्ध और उनकी इतिहाससम्मत तिथि’ इलाहाबाद से प्रकाशित हुई […]

origin of hindi

हिन्दी भाषा का उद्गम

हिन्दी भाषा का उद्गम अपभ्रंस से, और इसका उद्गम हुआ विदेशी आक्रमण कारियों की घुसपैठ से, शब्द हिंदी नहीं शब्द हिंद फारसी का है,,प्राचीन काल में ईसाई इब्रानी को मूल भाषा मानते थे, मगर जब और शोध और खोज हुयी तो एक ऐसी भाषा सामने आई जो न संस्कृत थी, न पाल,न प्राकृत, और न […]

baba-ram-rahim-ji

#KhattarTrappedBaba खट्टर जी के जाल मे फसा बाबा

#KhattarTrappedBaba खट्टर जी के जाल मे फसा बाबा, नही तो कोर्ट मे पेशी के लिये रहीम को सिरसा के किलेनुमा डेरे से बाहर निकालना बहुत मुश्किल व जोखिम भरा काम होता। मीडिया के और हरियाणा सरकार के मेरे कुछ गुप्त और विश्वस्त सूत्रों से एक नई और रहस्यमयी जानकारी सामने आई है, जो लोग हरियाणा […]

secularism

सेकुलरिज्म का ठेका

आपकी बात शत प्रतिशत सही है मेरी सहमति आपके साथ हैं। क्योंकि सही मायने में सेकुलरिज्म का ठेका सिर्फ इस देश में हिंदुओं ने ले रखा है। कभी किसी अहिन्दू या दूसरे शब्दों में कहे तो मुस्लिम या ईसाई को आपने सेक्युलर होते  देखा है। क्या कभी यह सुना कि सब भगवान एक हैं चाहे […]

भगवान विष्णु ने लिया राम अवतार

क्यों भगवान विष्णु ने लिया राम अवतार

क्यों भगवान विष्णु ने लिया राम अवतार   एक बार देवर्षि नारद को  इस बात का घमंड हो गया कि कामदेव भी उनकी तपस्या और ब्रह्मचर्य को भंग नहीं कर सकते। तब  भगवान विष्णु ने देवर्षि नारद का घमंड तोड़ने के लिए एक लीला रची! जब नारद कहीं जा रहे थे, तब रास्ते में एक नगर में  किसी राजकुमारी के स्वयंवर का […]

E-book and book revoiceindia

ई-बुक और किताब

 ई-बुक और किताब  लगभग एक दशक पहले कागज पर छपी हुई किताबो को श्रधांजलि देनी शुरू कर दी गयी थी। कहा जाने लगा था कि पढाई और अध्यन का भविष्य ई-बुक है। बाजार भी ई-बुक रीडरो से भर गया था । किताबो के ई-संस्करणों की बाजार मे जैसे बाढ सी आ गयी थी । और ईटरनेट ने इसे जैसे उंगलियो का खेल […]