बिजली कटौती और चोरी

Power outages and theft,बिजली कटौती और चोरी
बिजली कटौती और चोरी


बिजली कटौती और चोरी भारत देश की आम समस्या बन गयी है । एक तरफ देश की जनता बिजली कटौती को लेकर सरकार को कोसती है और दूसरी तरफ सरकार बिजली चोरी करने के कारण जनता से परेशान है । शहर हो या गांव घण्टो घण्टो बिजली काट दी जाती है । कुछ इलाको मे तो कई कई दिन तक लोग बिजली के इतजार मे बैठे रहते है । बिजली पानी के अभाव मे उन बेचारो के दैनिक काम भी पूरे नही होते। इसके चलते उन्हें बहुत कठिनाइयो का सामना करना पडता है । जबकि वीआईपी इलाको मे एक पल के लिए भी बिजली कटौती हो जाए तो पूरा बिजली विभाग का महकमा हिल जाता है और कुछ ही देर मे समस्या का समाधान हो जाता है । इसके विपरीत अन्य साधारण इलाको मे कटौती की शिकायत पर भी बिजली कर्मचारी हरकत मे नही आते। ऐसी ही दशा बिजली चोरी की है । कई गामिण व शहरी क्षेत्रो मे छुप कर और कुछ जगह तो खुलेआम बिजली चोरी की जा रही है । कुछ मामलो मे भृष्ठ बिजली कर्मचारी और स्थानीय  पुलिस की भी इसमे मिलीभगत होती है । लोग धडल्ले से बिजली चोरी करते है। और पुलिस और बिजली कर्मचारी को पैसे खिलाते है । और यह लोग सब जान कर भी अनजान बने रहते है । बिजली की धडल्ले से चोरी से सरकार को नुकसान पहुंचता है और इसके साथ ही बिजली मैन्युफैक्चरिंग यूनिटो पर दबाव पङता है । और इससे बिजली की आपूर्ति कम हो जाती है । बिजली चोरी गैर कानूनी है और पकडे जाने पर आथिर्क दड और सजा का प्रावधान है । लेकिन जब बिजली विभाग और पुलिस ही आँख  बंद करके बैठ जायेंगे तो इसे रोकेगा कौन । दरअसल 
समस्या पूरे सिस्टम मे है। जैसे बिजली कटौती की समस्या और उसका समाधान मे सरकार को पक्षपात रहित रवैया अपनाने की जरूरत है । उसी प्रकार बिजली चोरी रोकने के लिए भी सरकार और समाज दोनो को अपने अपने सतर पर प्रयास  करना चाहिए ।

loading...