गरीब की थाली

गरीब की थाली 
 
मोदी जी ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर गरीबो के कल्याण पर जोर दिया ! उन्होंने अपने भाषण के दौरान कहा की वह गरीब की थाली को महंगा नही होने देंगे ! इसके लिए जितने प्रयास संभव हैं, वह  करेंगे ! प्रधानमंत्री जी ने स्पष्ठ किया की उनकी सरकार में पिछली सरकारों के कार्यकाल की तुलना में महंगाई बढऩे की दर कम रही है! पिछली सरकार की समय महंगाई दर १० प्रतिशत के पार चली गई थी। लेकिन उनकी सरकार ने इसे ६ प्रतिशत से ऊपर नहीं जाने दिया है !  उनके अनुसार वर्तमान सरकार ने  महंगाई की दर को नियंत्रित करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक के साथ  एक समझौता  किया है ! देश में पिछले सालो के दौरान फसल उत्पादन की स्थिति ख़राब रही है। इस कारण आम जनता को विशेष कर गरीबो को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ा ! बेचारे गरीब परिवार महंगा आटा, चावल नहीं खरीद सकते। एक-दो किलो आटा – चावल खरीदने से पहले भी उन्हें कई बार सोचना पड़ता है ! भारत में तक़रीबन साढ़े 13 हजार से अधिक बीपीएल कार्ड धारक परिवार हैं! यदि पिछली सरकार की  तरह महंगाई बढ़ी होती तो देश के गरीबों का क्या होता। इसकी कल्पना की जा सकती है। उन बेचारो को तो भोजन भी उपलब्ध नहीं होता। सरकार यह जिम्मेदारी लेने को तैयार है कि गरीबों का शोषण न होने पाए और इसके लिए वह भरकस प्रयास करेगी 
 
loading...