हिन्दी भाषा का उद्गम

origin of hindi
हिन्दी भाषा का उद्गम अपभ्रंस से, और इसका उद्गम हुआ विदेशी आक्रमण कारियों की घुसपैठ से,
शब्द हिंदी नहीं शब्द हिंद फारसी का है,,प्राचीन काल में ईसाई इब्रानी को मूल भाषा मानते थे, मगर जब और शोध और खोज हुयी तो एक ऐसी भाषा सामने आई जो न संस्कृत थी, न पाल,न प्राकृत, और न ही हिंदी इरानी,इब्रानी…कुल मिलकर एक आदमी भाषा थी..इससे ही तूरानी,आर्य,शामी,और हब्शी आदि भाषाएँ सामने आयीं.यहाँ भी नहीं कह सकते की लैटिन और रुसी वगैरह भी वैदिक संस्कृत से निकली हैं,.पर जब आर्य लोग पश्चिम गए तो ग्रीक लैटिन अंग्रेजी आदि भाषाएँ आयीं,दो भागों में होकर एक काबुल की तराई की और पंहुंचा और हिन्दोस्तान आया.पहले भाग के लोगों ने मीडी भाषा बनाई जो की फारस पंहुंची थी और इसी आधुनिक फारसी की नींव माना जा सकता था.हिन्दुस्तान पन्हुंचे लोगों ने प्राकृत का प्रचार किया,और आर्यों ने वेदांत दर्शन और यास्क एवं वरदराज के उपस्तिथ ग्रंथों के माध्यम से वैदिक संस्कृत का प्रचार किया.अष्टाध्यायी में वैदिक और लौकिक दोनों भाषाओँ का उल्लेख है,बहुत सारे कारकों में भेद किया गया जिस प्रकार बंगाली में मनुश्येर का अर्थ मनुष्य का होगा उसी प्रकार संस्कृत में भी मनुष्येर का अर्थ वही होगा.अगर पतंजलि के अनुदित ग्रंथों से और अशोक के शिलालेख स्पष्ट रूप से समझे जायें तो साफ़ होता है की उतर में भी एक भाषा थी जो बड़ी ही अस्पष्ट एवं चित्रों से समझने वाली भाषा थी,भारत की बहुदा भाषाएँ हैं जो न प्राकृत से निकलीं, न संस्कृत से..हिंद शब्द को भी सिन्धु से जोड़ना गलत है क्यूंकि इस प्रकार से अगर सिन्धु नदी का असली नाम सिंध था जो भारत के उत्तर {पाकिस्तान} से आती थी,उस समय सिंध का “उ” प्रत्यय गलत था क्यूँ की यह प्रत्यय आधुनिक देन है. जो अक्सर शब्दों में मिल ही जाती है,.मसलन हिन्दू ही लिया जाये, कायदे से इस शब्द का अर्थ हिन्दोस्तान में रहने वाले हर एक प्राणी जीव से है, मगर आधुनिक {यह शब्द मुझे समझ नहीं आता आज } समय में इसे जाती के आधार पर प्रयोग किया जा रहा है, जिस प्रकार पंजाब में रहने वाला पञ्जाबी है, मगर गुरु ग्रन्थ में आस्थावान व्यक्ति सरदार है, अगर कोई सरदार तमिलनाडु में रहता है तो वह तमिल सरदार कहलायेगा न की पञ्जाबी. वैसे हिंद शब्द फारसी का है मगर इसका इसके प्रत्यय का संबंद मूलतः भारतीय भाषाओँ से ही हैं.किन्तु में हिंद को भी फारसी शब्द मानने में गुरेज़ करता हूँ, क्यूंकि दक्षिण में एक ग्रन्थ “निशीथ चुर्षक” अत्यंत पुराने ग्रन्थ में हिंदी शब्द का उल्लेख मिलता है.. हिन्दुकुश पहाड़ का नाम लेना यहाँ बड़ा विवादित होगा..
loading...