संतत्व दिवस

big_451347_1488980392
संतत्व दिवस  
 
दया की देवी मदर टरेसा को चार सितम्बर को संत की उपाधि दी जायेगी । संत  की उपाधि एक ऐसा सम्मान है! जिसमे पोप द्वारा  यह घोषणा की जाती है कि वह व्यक्ति जिसे उपाधि दी जा रही है । वह ईश्वर की कृपा प्राप्त करने के लिए पूर्ण  सत्यनिष्ठां  के साथ जिया है । स्वर्ग  मे ईश्वर के साथ है! और सभी के लिए पूजनीय है । ईसा मसीह ने स्पष्ठ कहा था कि मृत्यु के पलो मे हम सबके न्याय का आधार होगा। यह निर्भर  करता है कि हम गरिबो से कैसे व्यवहार करते है । भूखो से, बेघरो के साथ हमारा व्यवहार कैसा है । इसलिए उन्होंने खुद को भी इनके जैसा ही बना लिया था । मदर टरेसा उन्ही  का जीवंत उदाहरण थी। इन उदार महिला ने  अपना सारा जीवन  मानव सेवा मे न्यौछावर कर दिया । उनकी त्याग  और सेवा भावना दुनिया मे मिसाल है । ऐसी त्याग और सेवा की भावना के साथ जीवन बिताने के लिए साहस चाहिए । मदर टरेसा के शब्द थे, किसंख्या  के बारे में कभी चिंता मत करो । एक समय मे एक व्यक्ति  की सहायता करो और  हमेशा अपने सबसे पास के व्यक्ति से शुरू करो। दीन दुखियो के दर्द,  तकलीफो को अपना समझ कर उन्हें  इससे छुटकारा दिलाने के लिए मन से प्रयास  करना सिर्फ मदर टरेसा जैसी धनी और उदार व्यक्तित्व  की महिला ही कर सकती है । हम सबको उनके वव्यक्तित्व से कुछ न कुछ सिखना चाहिए ।  
loading...