सिनेमा -समाज का दर्पण

Cinema -smaj mirror revoiceindia
सिनेमा
 
 सिनेमा वर्तमान समय का एक अनिवार्य अंग बन गया है। वर्तमान समय में सिनेमा को समाज का दर्पण कहा जाता है! क़्योकी समाज और देश में जो कुछ भी घटित हो रहा होता है! सिनेमा में उसका ही नाट्य रूपांतरण किया जाता है!  सिनेमा की कुछ कहानी काल्पनिक तथा कुछ वास्तविक होती है! लकिन कुल मिला कर सिनेमा समाज का प्रतिबिम्ब ही है ! सिनेमा का प्रारंभ उन्नीसवीं शताब्दी में हुआ माना जाता है। कैमरा, फोटोग्राफी इत्यादि का आविष्कार इसी प्रयास का फल है। दादा साहेब फाल्के को ‘भारतीय सिनेमा का पितामह’ कहा जाता है । इन्होंने ही सर्वप्रथम मूक फिल्म राजा हरिश्चंद्र’ का निर्माण किया जिसे बाद में  पूरे भारत में प्रदर्शित किया गया। भारत में निर्मित प्रथम बोलती फिल्म ‘आलमआरा’  थी! और इस फिल्म के प्रदर्शन के साथ ही भारतीय फिल्म-उद्योग का परिदृश्य ही बदल गया। बोलती फिल्मों के निर्माण में प्रतिस्पर्द्धा प्रारंभ हो गई थी। और इस चलन के साथ ही भारतीय सिनेमा में मसाला फिल्मों की होड़ सी लग गयी ! इन फिल्मो में अश्लील द्रश्य व् नृत्यों का बोलबाला होता चला गया ! वर्तमान में कलाकार अश्लील भावभंगिमाओं व् नृत्यों को फिल्मों में दर्शकों के सम्मुख प्रस्तुत कर रहे है! इसके फलस्वरूप हिंदी-फिल्मों का स्तर निरंतर गिरता चला रहा है ।  वर्तमान में सिनेमा में इसका समावेश इस हद्द  तक हो चूका है की परिवार के सभी सदस्य एक साथ बैठ कर फिल्मो का आनंद नही ले सकते! यही कारण है कि आज की फिल्मों को अपेक्षित सफलता नहीं मिल पा रही है । वर्तमान में भारतीय फिल्मों पर पाश्चात्य सभ्यता का प्रभाव स्पष्ट दृष्टिगोचर होता है। भारतीय अभिनेत्रियों में कला-प्रदर्शन कम और अंग-प्रदर्शन की होड़ अधिक लग गई है । इससे युवा वर्ग पर कुप्रभाव पड़ रहा है ।फिल्मों में यथार्थ कम होता जा रहा है । परिणामस्वरूप कलात्मक फिल्मो का निर्माण कम हो गया है । कुछ फिल्में भारतीय सिनेमा की अस्तित्व को बचाये रखने का प्रयास कर रही हैं । लकिन फिर भी सामाजिक समस्याएँ अछूती रह गई हैं। उचित यह होगा कि फिल्में मनोरंजक के साथ साथ  शिक्षाप्रद भी हों, जिनका समाज पर सकारात्मक प्रभाव पड़े। सिनेमा जनशिक्षा का सशक्त माध्यम है। इसमें सभी को प्रभावित करने की क्षमता होती है। अत: फिल्म-निर्माताओं को व्यावसायिकता के साथ समाज के प्रति अपने दायित्व को भी समझना होगा !
loading...